Shiv Mandir (Green Park)

Shiv Mandir (Green Park)

लगभग 47 वर्ष पूर्व, क्षेत्र के कुछ धर्म-प्रेमी बन्धुओं के मन में ग्रीनपार्क क्षेत्र में कोई उपयुक्त पूजा- स्थल का अभाव अनुभव किया गया । परिणाम स्वरूप क्षेत्र के निवासियों के सहयोग से एक छोटे से चबूतरे पर शिव पंचायत की स्थापना की गई, जिसे बाद में निगम पार्षद स्व. श्री नरेंद्र पाण्डेजी के सहयोग से दीवार आदि से सीमाबद्ध किया गया और धीरे-धीरे यहाँ पर अक्टूबर, 1973  में मूर्ति स्थापना व दिव्य नर्मदेश्वर लिंग स्थापित करके छोटे से मंदिर का रूप प्रदान किया गया जिसमें मौहल्ले के साथ-साथ कालोनी के निवासिओं का भरपूर सहयोग प्राप्त हुआ क्योंकि आसपास ऐसा कोई स्थान नहीं था जहाँ लोग, विशेषतः महिलायें पूजा-अर्चना कर सकें।

तत्पश्चात्, छतरपुर वाले परमसंत बाबा नागपालजी के आशीर्वाद से सन 1983 में मंदिर विस्तार एवं निर्माण हेतु दिल्ली विकास प्राधिकरण द्वारा विधिवत 392 वर्ग मीटर भूमि आवंटित हो गई तथा मंदिर समिति के कर्मठ कार्य-कर्ताओं के सदपर्यन्तों से मंदिर का भव्य निर्माण कार्य शीघ्रता के साथ सम्पन्न हुआ जिसमें आर्थिक व अन्य कई विघ्न-बाधाएं आई किन्तु अंततोगत्वा बसंत-पंचमी, विक्रमी संवत 2058 तदनुसार 29 जनवरी, 2001 को ब्रम्हलीन बाबा नागपालजी द्वारा तैयार कराई गई शिव-पार्वती, राधाकृष्ण, राम-दरबार, माँ भगवती दुर्गा व आशीर्वाद मुद्रा में हनुमानजी की विशाल मूर्तियों की प्राण-प्रतिष्ठा सम्पन्न हुई। इनके अतिरिक्त श्रीगणपति (गणेशजी) की आणि आकर्षक प्रतिमा एवं सिंहवाहिनी, दुर्गाजी, की धातु की चल प्रतिमा भी भवन में स्थापित हैं । इसी उपलक्ष्य में प्रतिवर्ष बसंत पंचमी के शुभ अवसर पर वार्षिकोत्सव मनाया जाता है ।

गतिविधियाँ एवं कार्यकर्म :

  • प्रति दिन सायंकाल विशिष्ट विद्वानो द्वारा श्रीमद्भगवतगीता ।
  • श्रीमद्भगवतगीता - महापुराण एवं श्रीरामचरितमानस आदि पर प्रवचन ।
  • प्रत्येक सोमवार , मंगलवार व बुधवार को महिलाओ द्वारा संकीर्तन ।
  • मास के प्रथम मंगलवार व चतुर्थ सोमवार को दोपहर २ बजे से महिलाओ द्वारा श्री सुन्दरकाण्ड का पाठ ।
  • मास के प्रथम तथा चौथे गुरुवार को महिलाओ द्वारा प्रातः ११ बजे से अमृतवाणी का पाठ ।
  • प्रत्येक शनिवार को वक्तोजनो द्वारा संध्या ३ से ५ बजे से तक श्री सुंदरकांड ।
  • श्री हनुमान जयंती महोत्सव भव्य रूप से मनाया जाता है ।
  • नवरात्रों में माँ दुर्गा पूजा , ब्राह्मणो द्वारा श्रीदुर्गासप्तशती का प्रतिदिन पाठ चौकी , श्रीरामचरितमानस का अखंड पाठ तथा भंडारा आदि  होता है ।
  • श्री कृष्ण जन्माष्टमी, श्रीरामनवमी , श्रीशिवरात्रि पर श्रीरामचरितमानस का अखंड पाठ व भव्य झाकियाँ हवन तथा भंडारा आदि होता है ।
  • सप्ताह में छः दिन (रविवार के अतिरिक्त ) लंगर का आयोजन होता है ।
  • मकर - सक्रांति पर अभावग्रस्त समुदाय में कम्बल तथा अन्य वस्तुओं का वितरण कार्यक्रम होता है ।
  • अन्य धार्मिक उत्सवों पर समयानुसार भिन्न - भिन्न आयोजन होते है ।
  • निर्धन तथा विधवा महिलाओं की कन्याओं के विवाह का निःशुल्क किया जाता है ।
  • बसंत पंचमी मंदिर का स्थापना दिवस एवं वार्षिकोत्सव बड़ी धूम - धाम से मनाया जाता है ।
  • समय -समय पर स्वास्थ्य - जांच शिविरो का आयोजन होता है ।
  • सवतंत्रता दिवस पर राष्ट्रीय ध्वजारोहण तथा अन्य सांस्कृतिक कार्यक्रम होते है ।
  • सनातन धर्म प्रतिनिधि सभा के तत्त्वावधान में विकलांगो व असहाय महिलाओं व बच्चों के लिए कृत्रिम -अंग , सिलाई मशीन , त्रिपहिया साइकिल , सुनने की मशीने , पुस्तके व कापियाँ आदि का वितरण होता है ।
  • शरद ऋतु में प्रातः कालीन निःशुल्क योग कक्षा आदि का आयोजन होता है ।
  • इनके अतिरिक्त , मंदिर का भव्य भवन व बेसमेंट , क्षेत्र के निवासियों द्वारा धार्मिक , सांस्कृतिक , पारिवारिक कार्यक्रमों व शोक सभा हेतु उपलब्ध किया जाता है ।
  • दिव्य ज्योति जागृति संस्थान द्वारा मास के प्रथम रविवार को प्रातः ८:३० से १०:३० बजे तक भजन कीर्तन होता है ।
  • प्रति रविवार को कृष्ण प्रेम धारा ट्रस्ट द्वारा उपरान्ह १ बजे से ३:३० बजे तक प्रवचन एवं कीर्तन होता है ।
  • भगवान श्री कल्कि का प्रति माह के द्वतीय रविवार को वक्तो द्वारा प्रातः ९ बजे से १०:३० तक पूजा एवं हवन ।
  • मंदिर में उपर चढ़ने व उतरने के लिय पांच तल वाली लिफ्ट उपलब्ध है तथा लंगर सामान के लिय हाइड्रोक्लोरिक लिफ्ट का भी प्रावधान है ।

Temple History

Location

K-54, Block K, Green Park,
New Delhi, Delhi 110016.

Timings

Panchang (पंचांग)

Delhi, India Thu 22 Jun 2017
Sunrise (सूर्यूदय): 05:24 Sunset (सूर्यास्त): 19:22 Moonrise (चंद्रोदय):28:33+ Moonset (चंद्रअस्त ): 17:25 Tithi (तिथि): Trayodashi upto 15:38 Var (वार): गुरु

More...

  • No anyone events found.

Donation

Bank Name:

Branch Address:

Account number:

IFSC code:

In favour of: